आत्मनिर्भर भारत अभियान में माइक्रोफाइनेंस एक अहम कड़ी: कुलदीप माइती

आत्मनिर्भर भारत अभियान में माइक्रोफाइनेंस एक अहम कड़ी: कुलदीप माइती

कोलकाता: माइक्रोफाइनेंस उद्योग की भूमिका आर्थिक पिरामिड में सबसे नीचे रह गए देशवासियों के जीवन-स्तर को तेजी से सुधारने में सराहनीय रही है। विशेषज्ञों के अनुसार प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत अभियान को फलीभूत करने की मुहिम में माइक्रोफाइनेंस उद्योग की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी।

इस पर प्रकाश डालते हुए, विलेज फाइनेंसियल सर्विसेस (वीएफएस) के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, कुलदीप माइती ने कहा, “आने वाले दिनों में माइक्रोफाइनेंस का महत्व बढ़ेगा, जैसा कि पिछले दिनों में हुआ है। माइक्रोफाइनेंस अब सिर्फ गरीबी उन्मूलन के साधन से आगे बढ़कर हमारी आत्मनिर्भर होने की आकांक्षाओं को पूरा करने के लक्ष्य में एक अहम कड़ी भी बन गया है।”

उन्होंने कहा, “आत्मनिर्भर होने का मतलब – जैसे कि मिशन का वर्णन है, समाज के हर वर्ग से उद्यमशीलता को उभारना है। लेकिन चुनौती आर्थिक पिरामिड में सबसे नीचे के उद्यमियों को ‘वित्तीय पहुंच’ प्रदान करने की है जिनके पास के पारंपरिक वित्त चैनलों से ऋण आसानी से उपलब्ध नहीं है। इन उद्यमियों को आगे बढ़ने के लिए माइक्रोफाइनेंस संस्थान महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते है और वास्तव में निभा भी रहे हैं।”

फंड की उपलब्धता जरूरी

इन उद्योगों के लिए फंड की की उपलब्धता होना कितना जरूरी है, इस पर कुलदीप माइती ने बताया कि सरकार लघु उद्योग विकास बैंक (सिडबी) को धन के मुख्य स्रोत के रूप में उपयोग कर रही है, तथा माइक्रोफाइनेंस कंपनियों को वितरण के चैनल के रूप में। पोर्टफोलियो रिस्क फंड के तहत, सरकार सिडबी को एमएफआई को उधार लेने के लिए आवश्यक सिक्योरिटी डिपॉजिट का थोक प्रदान करती है।

“हालांकि यह ज्ञात रखने की जरुरत है कि पारंपरिक ऋण चैनल जैसे की बैंक कोलैटरल आधारित ऋण मुहैया करती है, और चूँकि छोटे उद्योगों के पास कोलैटरल का अभाव होता है उन्हें व्यवसाय चलाने के लिए इन चैनलों से फंड आसानी से उपलब्ध नहीं होती। ऐसे लेंडर्स छोटे उद्योगों को बहुत उच्च जोखिम ऋण श्रेणी में रखते है। धनराशि की कमी न केवल वृद्धि को बाधित करती है; उद्यमी क्षमता को उभरने से भी रोकता है। यहीं पर माइक्रोफाइनेंस कंपनियों ने अपनी भूमिका निभाई है और ऐसे उद्यमियों के मदद के लिए कदम बढ़ाया है,” उन्होंने कहा।

कुलदीप माइती के अनुसार, लघु ऋण चैनल इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि छोटे उद्योग जिन्हें धन की कुशल तैनाती में विशेषज्ञता नहीं है उन उद्योगों को माइक्रोफाइनेंस संस्थाए ऋण मुहैया करने के अलावा उधार ली गई धनराशि का सही उपयोग करने की भी दिशा दिखाती है। यही इनिशिएटिव लघुऋण उद्योग की महत्ता अधिक बढ़ा देती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: